team management

Team Management क्या है। टीम मैनेजमेंट की जरूरत क्यू होती है ?

Team Management को समझने के लिए सबसे पहले हमें टीम वर्क के बारे में समझना होगा, जब हम ऑफिस में काम करते है तो हमारे साथ हमारे सहकर्मी भी काम करते है जब हम और हमारे सहकर्मी दोनों मिलकर किसी एक लक्ष्य की प्राप्ति के लिए काम करते हैं।

बिल्कुल उसी तरह जैसे हमारे परिवार में हर कोई अपनी जिम्मेदारी निभाता है वह परिवार में मिल बांट कर काम करता है यह परिवार का टीमवर्क हुआ। और  जो काम आफिस में होते है वह ऑफिस का टीम वर्क होता है। एक अच्छे टीमवर्क का मतलब है कि सभी लोग एक साथ मिलकर काम कर पाए ।और एक दूसरे को समझ पाए जिससे हम जिस भी लक्ष्य के लिए काम कर रहे है वह सुलभता से प्राप्त कर पाए।

 Team Management में यह समझना बिल्कुल आवश्यक है कि हर इंसान अलग-अलग तरीके का होगा और उसके काम करने का तरीका भी अलग होगा। जैसे कि हमारा सहकर्मी जो कोई एक जल्दी काम खत्म कर लेगा और कोई होगा जो काम करने में ज्यादा समय लगाता हैं।

किसी की प्रेजेंटेशन स्किल बहुत अच्छी होगी तो किसी की कम्युनिकेशन स्किल अच्छी होगी तो हर किसी की विशेषता को साथ में लेकर मिलाजुला कर हम कैसे काम कर सकते है कैसे टीम में एक साथ काम कर पाए वह बहुत जरूरी हैं।

टीम वर्क में प्रत्येक सहकर्मी की योग्यता और विशेषता को साथ लेकर चलना होता है। टीम वर्क को सक्सेसफुल बनाने के लिए टीम संचालक की अच्छी कम्युनिकेशन स्किल अच्छी listening skills होनी चाहिए। टीम वर्क के लिए एक दूसरे को समझ पाना बेहद जरूरी है। Team Management में आवश्यक है कि प्रत्येक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति के बातों को उनके विचारों को ध्यान से सुने और एक दूसरे के साथ समझदारी से बातचीत करके अच्छे-अच्छे आइडिया निकालें।

Team Management क्या हैं

किसी काम को सही तरीके से सुसंगठित करके करना मैनेजमेंट कहलाता है। जब किसी प्रोजेक्ट या लक्ष्य पर कई लोगों का समूह एक साथ कार्य करना टीम वर्क होता हैं।

और जब पूरी टीम को एक मैनेजर द्वारा या  किसी फैकल्टी दर्शाया गाइड करके काम करवाना टीम मैनेजमेंट कहलाता है। अगर हम किसी की हेल्प करें तो वह घूम कर हम तक जरूर आता है टीम वर्क में एक दूसरे की हेल्प करने से कितना फायदा हो सकता हैं।

टीम मैनेजमेंट क्या है उदाहरण से समझें: इसको समझने के लिए इस स्टोरी के माध्यम से इस चीज को हम समझने की कोशिश करेंगे दोस्तों एक बार 50- 60 लोगों का एक सेमिनार होता हैं।

जब वह सेमिनार शुरू होता है और जब स्पीकर आता है स्पीकर उन सबको एक-एक गुब्बारा दे देता है। और उस गुब्बारे पर उन सब से रिक्वेस्ट करता है कि मारकर से अपना नाम लिखने की रिक्वेस्ट करता है सारे पार्टिसिपेंट उस गुब्बारे में अपना नाम लिखते हैं और नाम लिखने के बाद उन सब से गुब्बारा ले लिया जाता हैं।

और पास के ही एक कमरे में एक बड़े से बॉक्स में उस गुब्बारे को डाल दिया जाता है। अब स्पीकर उन सब से रिक्वेस्ट करता है कि आप सबके पास 5 मिनट का टाइम है आपको उस कमरे में जाना है। अपने नाम का गुब्बारा ढूंढ कर लेकर आना है जैसे ही घंटी बस्ती है सारे व्यक्ति उस कमरे में जाते हैं और अपना गुब्बारा ढूंढते हैं लेकिन 5 मिनट का ही टाइम होता हैं।

इसलिए सभी जल्दी में होते हैं और सारे इस चक्कर में होते हैं कि कैसे मुझे अपने नाम का गुब्बारा जल्दी मिल जाए और इस चक्कर में किसी को भी अपने नाम का गुब्बारा ठीक से नहीं मिल पाता। जैसे ही 5 मिनट और होते हैं वह सारे वापस आते हैं।

स्पीकर उनसे बोलता है कि क्या आप सब लोगों को अपने अपने गुब्बारे मिल गए तो सब बोलते हैं कि नहीं हमारे पास समय बहुत कम था। इसलिए हम अपने नाम का गुब्बारा नहीं ढूंढ पाए तो स्पीकर बोलता है कोई बात नहीं अब मैं आपको एक ट्रिक बताता हूं क्योंकि यह है कि जब भी आप दोबारा इस कमरे में जाओगे।

अभी मैं आपको दोबारा से आपको इस कमरे में भेजूंगा और आपके हाथ में जो भी गुब्बारा आए उसके जो भी नाम लिखा हो आप उस गुब्बारे को उसको दे देना है और जोर से चिल्लाना है कि यह गुब्बारा किसका हैं।

जैसे ही बेल बजती है सारे लोग उस कमरे में फिर से जाते हैं और एक गुब्बारा उठाते हैं और जिसके हाथ में जिसका भी गुब्बारा आता है वह उसे जोर से चिल्लाकर उसका नाम बुलाता है और उसे दे देता है जिस भी व्यक्ति का गुब्बारा होता है वह उसके पास आता है और अपना गुब्बारा ले लेता हैं।

5 मिनट के अंदर लगभग सभी लोगों को अपना अपना गुब्बारा मिल जाता है और सभी वापस सेमिनार हॉल में जाते हैं।  

अब स्पीकर उन सब को समझाता है कि जब आप पहले गुब्बारा ढूंढने के लिए गए थे तो सिर्फ आप अपने लिए काम कर रहे थे यानी कि आप सिर्फ इस चक्कर में थे कि कैसे मेरे नाम का गुब्बारा जल्दी मिल जाए। लेकिन दूसरे राउंड में जब आप गए तो आपके हाथ में जो भी गुब्बारा आया उसमें जिसका भी नाम लिखा था।

आपने उस गुब्बारे को उसे दे दिया ठीक उसी तरह आपका गुब्बारा भी किसी के हाथ में रहा होगा और उसने आपको को पकड़ा दिया होगा । 

आपका नाम पुकार कर इसका मतलब जब आप किसी की मदद करते हैं तो आपकी हेल्प कहीं ना कहीं अपने आप हो जाती है। तो दोस्तों यही टीमवर्क का एक सबसे बड़ा जो प्लस पॉइंट है यही है कि टीम वर्क में हमेशा आपको दूसरों की मदद के बारे में सोचना है अगर आप दूसरों की मदद करेंगे तो हो सकता है कि आपकी मदद अपने आप हो जाए।

Team Management की जरूरत

टीम मैनेजमेंट करने से ऑफिस में हमेशा खुशी का माहौल बना रहता है और अगर कुछ भी परेशानी होती है। तो हम आपस में बैठकर विचार विमर्श कर पाते हैं।

टीमवर्क्स करने से हमें बड़ी से बड़ी जटिल समस्याओं को हल करने में आसानी होती है क्योंकि टीम में तरीके के लोग होते है और उनके काम करने के तरीके और आईडिया भी अलग-अलग होते है जिससे कि हम जटिल से जटिल समस्या को आसानी से सॉल्व कर सकते है। टीम वर्क की मदद से आप ज्यादा से ज्यादा काम कम समय में कर पाएंगे मतलब आप की प्रोडक्टिविटी बढ़ेगी।

निष्कर्ष

अगर आपको हमारा यह लेख पसंद आया है तो फिर आप यह लेख अपने facebook या किसी भी SOCIAL MEDIA पर जरूर शेयर करें ताकि वहां पर भी कोई व्यक्ति ऐसा होगा जो की Team Management क्या हैं के बारे में जानकारी जानना चाहता होगा।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *