Verbal Communication Skill क्या है और इसे कैसे बेहतर करे ?

Join Us On Telegram

Verbal communication skill के जरिए आपको किसी भी कार्य में ज्यादा परेशानी नहीं होती है, और साथ ही आपके लिए बहुत सारे अवसर भी खुल जाते हैं। इसके स्किल के जरिए आप जान सकते हो कि लोगो से किस प्रकार बात करनी चाहिए। 

लगभग सभी क्षेत्रों में नौकरी कि तलाश कर रहे लोगो मे ये जरूर देखा जाता है कि उनकी communication skill कैसी है? क्योकि ये अनिवार्य हो गया है आजकल नौकरी पाने के लिए। चाहे नौकरी का इंटरव्यू देना हो या अन्य कोई कार्य सभी में ये skill को सबसे अधिक महत्व दिया जाता है। इस स्किल में आप जितना बेहतर होते हो उतना ही आसानी से आप किसी से बातचीत कर सकते हो और साथ ही इसकी मदद से आपको नौकरी मिलने की संभावन भी बढ़ जाती है।  

अगर आप भी verbal communication skills सीखना चाहते हो तो इस आर्टिकल को जरूर ध्यान से पढ़े. जिसमें आपको verbal communication skills क्या है? इसके कितने प्रकार होते है? और इस स्किल में बहेतर कैसे बने? इन सभी के बारे में इस पोस्ट में दी गयी है। इसके साथ ही बहेतरीन तरीके भी  बताये है, जिसके जरिये आप अपनी verbal communication skill को और अच्छा करके लोगों से बेहतर बातचीत कर सकते  है।  

तो चलिए देखते है verbal communication skill in hindi की जानकारी ताकि आप कुछ नया सीख सके और आपके carrer में सफलता मिल सके।  

verbal communication skill in hindi

Verbal Communication Skill क्या है ? (Verbal Communication Skill In Hindi)

किसी विषय पर अपनी बातों को रखने के लिए अच्छे verbal communication skill कि आवश्यकता होती है। इसमें कुछ non- verbal techniques जैसे body languages होते है, जिसका इस्तेमाल बातचीत के दौरान करना जरूरी होता है। 

इस skill के जरिए आप लोगो को बेहतर तरीके से समझा सकते है और साथ ही उनकी बातों को भी समझने में मदद मिलती है। चाहे आप बोल रहे हो या लिख रहे हो सभी में यह skill का होना अनिवार्य है, इसके बिना आप किसी से बातचीत के समय आपको अनेकों परेशानियों का सामना कर सकते है। इसलिए इसको सीखना बहुत जरूरी है, अगर आपको किसी से अच्छे तरीके से बात करना है।

Verbal Communication Skill के कितने प्रकार होते है ?

  • Intrapersonal Communicaton
  • Small-Group Communication 
  • Public Speaking Communication 

Intrapersonal Communication

इस प्रकार की बातचीत में केवल दो लोग ही होते है जो आपस में किसी विषय पर बात करते है।  

Small-Group Communication

इस communication में दो अधिक लोगो का समूह होता है, जो किसी विषय पर चर्चा कर रहा होता हैं, जैसे press conference, company team meeting भी इसका एक बेहतरीन उदहारण है।  

Public Speaking Communication 

इसमें लोगो की संख्या बहुत अधिक होते है, जिसमें एक व्यक्ति किसी विषय के बारे में लोगो को बता रहा है और बाकी के लोग उसको सुन रहे है। उदहारण के लिए कोई नेता की रैली या फिर public speaking conference में अधिक लोग मौजूद होते है।  

Verbal Communication Skill इतना जरुरी क्यों है ?

Verbal Communication skill क्या है? और इसके प्रकार जानने के बाद अब सवाल ये आता है कि आखिर ये इतना अनिवार्य क्यों है? और साथ ही इसका इस्तेमाल कहां कहां होता है? इस skill का सही प्रकार से इस्तेमाल करके आप बहुत स्थानों में सफलता हासिल कर सकते है चाहे वो नौकरी पाने के लिए कोई इंटरव्यू हो या project management से सम्बंधित कोई अन्य कार्य। यह ऐसी skill है जिसे सभी लोगो को अपनी ज़िन्दगी में जरूर सीखना चाहिए ताकि बातचीत के दौरान आपको सभी बातें आसानी से समझ आ सके। 

एक अच्छे communication skill कि मदद से आप अपने कार्य में होने वाली गालितयो को काफी कम कर सकते हो और साथ ही आपके साथ काम कर रहे लोगो के बीच आप confidence से भरे लगते है। 

Verbal Communication skill को कैसे बहेतर करे ?

अब हम देखते है इस skill को कैसे बेहतर करने के लिए कुछ जरूरी तरीके –

बोलने से पहले जरूर सोचे

आपने भी बहुत बार लोगो से यह जरूर सुना होगा कि कुछ भी बोलने से पहले हमे सोच लेना चाहिए ,क्योकि एक बार बोला गया शब्द वापस नहीं आ सकता है।

शब्द बहुत पॉवरफुल होते है, जिनका सही से प्रयोग ना करने पर लोगो को दुख दे सकते हैं, इसीलिए हमे इसका सही इस्तेमाल करना आना चाहिए ताकि आपके द्वारा दी गई जानकारी लोगो पर प्रभाव डाल सकें। किसी भी बातो का जवाब देने से पहले उसे अच्छी तरह से समझ लेने से आप पूरे condensed हो जाते हो, और आपसे किसी भी प्रकार की गलती होना की संभावना कम हो जाती है। 

बोलने से पहले अपने विचारो को समझना ताकि बोलने के दौरान आपको मुश्किल न हो और आप आसानी से अपनी बात रख पाओ। इसीलिए यह जरूरी है कि बोलने से कुछ देर पहले थोड़ा आप अपने मन में सोच-विचार कर ले तभी कुछ बोले। जिससे आपकी बातें लोगो को सुनने में अच्छा लगेगा और साथ ही आपके बोली में भी दम रहेगा क्योकि आपने सोचकर ही अपना जवाब दिया है। 

आपने भी आने आस पास जरूर देखा होगा कि किसी को बिना सोचे समझे बोलने की आदत होती है जिससे वो बड़ी मुश्किल में भी फंस जाते है और उन्हें सुनने वाले लोगो को भी उनकी बातें अच्छी नहीं लगती है, क्योकि बोलने के दौरान सिर्फ़ एक negative या ग़लत शब्द के उपयोग से आप दूसरे को बुरा महसूस करवा सकते हो। 

स्पष्ट और संक्षिप्त शब्द बोले

अगर आपको अपनी बोली गई बातों को ठीक तरह से लोगो के बीच रखना चाहते हो तो उसके लिए आपको अपनी बात स्पष्ट और संक्षिप्त रूप से बोलनी आनी चाहिए । इसके लिए आपको ज्यादा मुश्किल शब्द जो समझने में थोड़ा कठिन हो वैसे शब्दों का इस्तेमाल करने से बचे और उसके स्थान पर आसान शब्दों का उपयोग करे ताकि लोग तुरंत आपकी बातें समझ सके जो आप कहना चाह रहे हो। 

आपको किसी को कोई जानकारी देने से पहले आप अपने आप से ये पूछ सकते हो कि इस बात को समझाने का सबसे आसान तरीका क्या हो सकते है जिससे लोग आपकी बातों को समझने में परेशानी न हो सके। चाहे आप बातचीत कर रहे हो या फिर किसी विषय पर लिख रहे हो दोनों स्थनो में शब्दों का सही चयन और जानकारी का उपयोग करने से लोग आपकी बातें सफलतापूर्वक समझ सकेंगे जो भी आप उनसे कहना चाहते हैं।

इस skill का सबसे ज्यादा महत्व तब हो जाता है जब आप लोगो को किसी काम से संबंधित निर्देश दे रहे है उस समय ये अनिवार्य है कि उन्हें आपकी सभी बाते समझ आ सके। क्युकी अगर ये नहीं हुआ तो काम ठीक से नहीं हो पाएगा। इसीलिए ये जरूरी skill को सीखना इतना महत्वपूर्ण हो जाता है। 

सामने वाले लोगो को समझे

चाहे आपकी communication skill कितनी ही अच्छी क्यों न हो जब तक आप लोगो को नहीं समझ पा रहे हो तो इसका कोई फायदा नहीं है। अपनी बातों को बहेतर तरीके से सभी लोगो तक पहुंचाने के लिए सबसे पहले आपको ये जानना जरूरी है कि सामने वाले लोगो को कितनी जानकारी है जिसके बारे में आप बात करने वाले हैं। 

किसी विषय की जानकारी देने से पहले आपको लोगो की जरूरतें के बारे में पता होने चाहिए कि उन्हें क्या सीखना है  तभी लोग ध्यानपूर्वक आपकी बातें सुनेगे, क्योकि आप उन्ही विषय पर बात कर रहे है,जो उनके संबंध में है। इससे वे लंबे समय तक आपकी बातें सुनते हैं। ये करना अनिवार्य है, कयुकी सभी लोगो कि जानकारी एक जैसी नहीं होती है सभी की अलग अलग होती है जिसके अनुसार ही हमे बात करनी चाहिए ताकि उन्हें समझ आ सके।

Voice Tone सही रखे

किसी से बातचीत करने के दौरान आपकी voice tone भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। जितना बेहतर ये voice tone होगा उतना ही शानदार आपकी communication skill होगी जिसे सुनने वाले को भी अच्छा लगता है। लोगो से बात करने के दौरान कुछ शब्द ऐसे होते है, जिसके अनुसार आपको आपनी voice tone भी बदलनी होती है। अगर आप किसी से सिर्फ़ एक ही प्रकार का voice tone इस्तेमाल करके बात कर रहे है तो सुनने वाले को आपकी बातें पर ज्यादा ध्यान नहीं होता है।  

इसलिए शब्दों के अनुसार अपने voice tone को बदलने से आपकी बातें सुनने में अच्छी लगती है और आपकी कम्युनिकेशन स्किल्स में बहेतर हो जाती है।  यदि आपको समझ नहीं आ रहा है की आप किस प्रकार से अपनी voice tone को शब्दों के अनुसार बदले तो आप दूसरे किसी अच्छे communicator को देखकर सीख सकते हो की उनकी बोलनी की शैली किस तरह है, जिसको आप भी बोलने के दौरान इस्तेमाल कर सकते है।  

Body Language पर ध्यान दे

यह एक प्रकार का non-verbal communication skill है, जिसका बात करने के दौरान सही तरीके से करना जरुरी है। क्योकि एक अच्छी body language के जरिए आप किसी भी बात को लोगो को समझा सकते है। 

आपकी body language जितनी बहेतर होगी उतना ही आप confidence लगते हो। इसके साथ ही बातचीत करने के समय आप लोगो की आँखों में देखकर बात करे लेकिन एक बात का ध्यान रखे कि लगातार लोगो कि आंखों में देखना अच्छा नहीं लगता है आप बीच बीच में जब जरूरत हो तभी देखे। अपनी body language को सुधारने के लिए आप अपने हाथो का gesture और facial expression अनिवार्य है, जिससे लोग आपकी बातें और अच्छी तरह से समझ सके। 

उदहारण के लिए – आपने communication skill expert को देखा होगा है की वो किस प्रकार बातचीत के दौरान अपने हाथो का उपयोग करते है किसी बात को समझाने के लिए और लोगो के साथ eye-contact बना कर रखते है। इससे उनको सुनने वाले लोगो को सभी बातें समझ आ सके।

ध्यानपूर्वक बातों को सुने

Communication skill में जितना जरूर बोलना है, उतना ही जरूरी सुनना भी है। जब आप सामने वाले की बातें ध्यान से सुनते है, तो उन्हे लगता है कि आप उनकी बातों को सुनकर उनका सम्मान कर रहे है। 

किसी से बातचीत के दौरान आप दूसरों को अपनी बात रखने का समय दे। अगर आप बार बार दूसरे के बोलने के दौरान कुछ बोलते रहेंगे तो ये बिल्कुल भी ठीक नहीं है, क्युकी ये लोगो को दर्शाता कि आप उनकी बातो पर कोई interest नहीं है।इसके साथ ही आप कुछ सवाल भी पूछ सकते हो ताकि आपको कोई confusion न रहे और आप बातों को बेहतर तरीके से समझ सके। जब तक आपके सामने वाले की बाते खत्म नहीं कर लेता है, तब तक आपको उन्हे सुनना चाहिए।

एक अच्छा active listener बनने के लिए आपको eye contact मतलब सामने वाले की आंखों में देखना है जब वह कुछ आपसे कह रहा है जिससे आपका पूरा ध्यान सिर्फ़ उनके द्वारा बताए जा रहे बातो पर ही रहता है।

अपने कौशल का अभ्यास करें

Verbal Communication skill को आप लगातार अभ्यास से बेहतर बना सकते है। हालांकि, इस skill में अच्छा बनने के लिए अनेक तरीके है, लेकिन practice के बिना इसमें बेहतर नहीं बना जा सकता है। 

अगर आपको बहुत सारे लोगो के सामने बोलने में डर परेशानी होती है तो आप अकेले में शीशे (mirror) के सामने बोलने कि practice कर सकते हो, या फिर आप अपने बातों कि recording करके खुद देख सकते हो, कि आप कहां पर गलती कर रह है जिसे सुधारकर आप अपने आप को और बेहतर बना सकते है। 

आज आपने क्या सीखा ?

उम्मीद करता हूँ, आपको हमारा ये पोस्ट जिसमें verbal communication skill in hindi, और इसको कैसे सीखे? साथ ही इसकी इतनी जरुरत क्यों है? इन सभी जानकारी को पढ़कर आपको जरूर अच्छा लगा होगा। अगर हाँ, तो इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूले, ताकि उन्हें भी verbal communication skill in hindi की यह जानकारी के बारे में पता चल सके। इसके साथ अगर आपके कुछ सवाल है तो आप हमे comment box के जरिये बता सकते है।  

इसे भी पढ़े – 5 Skills जो हर किसी को आनी चाहिए

Leave a Comment