provisional certificate

Provisional Certificate क्या है और कैसे बनवाए ?

Provisional Certificate Online: हैलो दोस्तों, जब आप उच्च स्तर की पढाई के लिए एडमिशन लेते होंगे तो अक्सर वह अंक तालिका (marksheet) साथ प्रोविजनल सर्टिफिकेट भी माँगा जाता है। ताकि वो ये जान सके की आपने अपनी पढाई पूरी करी है तो आज हम इस लेख में प्रोविजनल सर्टिफिकेट के बारे में बात करेंगे की प्रोविजनल सर्टिफिकेट किसे बोला जाता है इसकी क्यों जरुरत पढ़ती है ये कैसे बनवाया जा सकता है आदि और भी बहुत सी प्रोविजनल सर्टिफिकेट से जुड़ी मह्त्वपूर्ण बातो पे चर्चा करेंगे।

Table of Contents

प्रोविजनल सर्टिफिकेट किसे कहा जाता है? 

जब कोई विध्यार्थी किसी स्कूल या किसी कॉलेज से पढ़ाई पूरी करता है, तब उसे उसकी मार्कशीट के साथ एक और सर्टिफिकेट दिया जाता है जिसे प्रोविजनल सर्टिफिकेट बोला जाता है। यह एक अस्थायी सर्टिफिकेट होता है यानी कुछ समय अंतराल के बाद इसकी जरुरत ख़त्म हो जाती है। ये सर्टिफिकेट उस विद्यार्थी को आगे दाखिला दिलवाने में मददगार होता है। इस सर्टिफिकेट की मदद  से दूसरी यूनिवर्सिटी या कॉलेज जहां वह विद्यार्थी दाखिला लेना चाहता है उस विद्यार्थी की जानकारी को वेरीफाई किया जाता है 

अक्सर कॉलेज से ओरिजिनल सर्टिफिकेट जैसे डिग्री मिलने में एक साल या दो से तीन साल तक लग जाते है। इस दौरान हर जगह प्रोविजनल सर्टिफिकेट ही दिखाना पढता है और उसकी मदद से दाखिला मिल जाता है लेकिन डिग्री मिलने के बाद इस सर्टिफिकेट की उपयोगिता खत्म हो जाती है।   

प्रोविजनल सर्टिफिकेट की क्यों जरुरत पढ़ती है?

कॉलेज डिग्री एक ऐसा दस्तावेज होता है जिसके जरिये ये पता चलता कि उस विद्यार्थी ने अपनी एजुकेशन complete करी है। लेकिन डिग्री एक दम से नहीं बन पाती उसे बनने में कुछ समय लग जाता है। ऐसे में किसी student का admission न रुके या किसी कंपनी में उनकी जॉब placement पर कोई असर न हो इसलिए उन्हें एक अस्थायी दस्तावेज (temporary document) यानी प्रोविजनल सर्टिफिकेट दे दिया जाता है। जिसकी मदद से स्टूडेंट्स कही भी दाखिला ले सकते है और जैसे ही उन स्टूडेंट्स को यूनिवर्सिटी से डिग्री मिल जाए वैसे ही वो उसका verification करवाकर अपना एडमिशन या जॉब पक्का कर सकते है। 

प्रोविजनल सर्टिफिकेट के उपयोग (Provisional Certificate Uses)

प्रोविजनल सर्टिफिकेट के काफी सारे महत्वपूर्ण uses होते है –

अगर आपका कॉलेज से पास होने के बाद अभी-अभी किसी कंपनी में जॉब लगा (job placement) है। तब उस कंपनी में document verification के समय आपको ऐसे दस्तावेज दिखने होंगे जो ये साबित कर सके की आपने अपनी पढाई उस यूनिवर्सिटी से पूरी करी है इसलिए प्रोविजनल सर्टिफिकेट दिया जाता है ताकि स्टूडेंट्स को किसी भी तरह की परेशानी न उठानी पढ़े।

प्रोविजनल सर्टिफिकेट इस बात को सुनिश्चित करता है की अभी तक यूनिवर्सिटी से डिग्री issue नहीं हुई। 

जब आगे की पढाई के लिए किसी यूनिवर्सिटी में सर्टिफिकेट्स दिखाने पढ़ते है तब प्रोविजनल सर्टिफिकेट बहुत उपयोगी होता है। 

प्रोविजनल सर्टिफिकेट पर  student का नाम, कोर्स, division, कुल नंबर लिखे होते है जिससे यह भी पता चल जाता है कि उस विद्यार्थी ने अपनी पढ़ाई पूरी करी है। 

प्रोविजनल सर्टिफिकेट कैसे बनवाया जाता है?

अगर आपने अभी ग्रेजुएशन पूरी करी है और अभी तक आपको आपकी डिग्री नहीं मिली और ऐसे में आपको किसी कंपनी में जॉब के लिए एजुकेशन सर्टिफिकेट्स दिखाने है। तब आप अपनी यूनिवर्सिटी कॉलेज के “प्रशासनिक विभाग” (administrative department) या “परीक्षा नियंत्रक विभाग” (exam controller) के द्वारा शीघ्र ही अपना provisional certificate बनवा सकते है। 

एप्लीकेशन देने के 5 से 10 दिनों के अंदर-अंदर आपका प्रोविजनल सर्टिफिकेट बन के तैयार हो जायेगा और वह सर्टिफिकेट हर तरह के जॉब इंटरव्यू या किसी कॉलेज में एडमिशन के लिए शत प्रतिशत मान्य होगा। 

प्रोविजनल सर्टिफिकेट बनवाने के लिए किन दस्तावेज की जरुरत पढ़ती है

प्रोविजनल सर्टिफिकेट बनवाने के लिए आपको एक एप्लीकेशन के साथ अपने कुछ दस्तावेज की फोटोकॉपी जमा करनी पढ़ती है। जैसे हर सेमेस्टर की मार्कशीट या पुरे साल की अंकतालिका (Marksheet) जिसपे आपके सभी सेमेस्टर, सभी विषय के अंक लिखे हो उन अंकतालिका की फोटोकॉपी को खुद से प्रमाणित (self-attested) करके उस एप्लीकेशन फॉर्म के साथ जमा करना पढता है।

ये भी पढ़े :-Top 10 engineering colleges in Hyderabad

प्रोविजनल सर्टिफिकेट ऑनलाइन कैसे निकाले (Provisional Certificate Online)

आजकल covid-19 के दौर में ज्यादातर यूनिवर्सिटी प्रोविजनल सर्टिफिकेट ऑनलाइन निकालने की सुविधा दे रही है। यानी आप उस यूनिवर्सिटी की official website पर जाके अपना Provisional Certificate Online बढ़ी आसानी से निकाल सकते है।

प्रोविजनल सर्टिफिकेट निकालने का तरीका 

हर यूनिवर्सिटी का अलग प्रोसेस होता है प्रोविजनल सर्टिफिकेट निकालने का नीचे हमने कुछ यूनिवर्सिटी से प्रोविजनल सर्टिफिकेट निकालने का तरीका बताया है आप उनसे idea ले सकते है।  

DU SOL प्रोविजनल सर्टिफिकेट निकाले 

SOL (School of Open Learning) से प्रोविजनल सर्टिफिकेट निकालने के लिए आपको –

  • सबसे पहले उसकी official website पर जाना होगा।
  • अब SOL का roll number डालकर वेबसाइट में लॉगिन करे।
  • अब एक पेज खुल जायेगा जहा आपको प्रोविजनल सर्टिफिकेट के सेक्शन में जाना होगा।
  • फिर अपना SOL का रोल नंबर, जिस साल अपने एग्जाम पास किया वो साल डालना होगा और अपना एग्जाम का रोल नंबर भी डालना होगा।
  • अब प्रोविजनल सर्टिफिकेट का पेज खुल जायेगा जिसका आप printout करके रख सकते है।

Madras University का प्रोविजनल सर्टिफिकेट निकाले

  • madras university से प्रोविजनल सर्टिफिकेट निकालने के लिए सबसे पहले आपको उसकी वेबसाइट पर जाना होगा।
  • फिर “UG Provisional Certificate” पर जाना होगा।
  • अब अपना registration no. डालना होगा
  • अब प्रोविजनल सर्टिफिकेट का पेज खुल जायेगा।
  • Provisional Certificates का printout ले सकते है।

IGNOU प्रोविजनल सर्टिफिकेट निकाले

  • IGNOU (Indira Gandhi National Open University) आपके एग्जाम पास करने के बाद आपका प्रोविजनल सर्टिफिकेट आपके लिखे पते पे भेज देता है जिसे पहुंचने में कुछ दिन लग जाते है।
  • अगर कुछ  बाद तक आपका प्रोविजनल सर्टिफिकेट आपतक नहीं पहुंचा तब आपको अपने regional centre पर जाके या वेबसाइट पर से सर्टिफिकेट निकलवा सकते है।  

प्रोविजनल सर्टिफिकेट की वैधता (Provisional Certificate Validity)

प्रोविजनल सर्टिफिकेट की कोई fix वैलिडिटी नहीं होती या expiry तिथि नहीं होती जब तक यूनिवर्सिटी से डिग्री नहीं मिल जाती तब तक प्रोविजनल सर्टिफिकेट मान्य रहता है और इसे कहीं भी जॉब इंटरव्यू या किसी यूनिवर्सिटी में वेरिफिकेशन के लिए दिखा सकते है 

कोर्ट ने भी यह बात साफ साफ बोली है की जब तक डिग्री issue न हो जाए तब तक प्रोविजनल सर्टिफिकेट ही मान्य होगा क्योकि प्रोविजनल सर्टिफिकेट इस बात का सबूत होता है की अभी तक डिग्री इशू नहीं हुई जैसे ही यूनिवर्सिटी से डिग्री issue हो जाती है वैसे ही प्रोविजनल सर्टिफिकेट अपनी importance खो देता है और उसकी validity ख़त्म हो जाती है। 

प्रोविजनल सर्टिफिकेट और डिग्री सर्टिफिकेट में अंतर 

डिग्री सर्टिफिकेट (Degree Certificate)प्रोविजनल सर्टिफिकेट(Provisional Certificate)
यह स्थायी सर्टिफिकेट (permanent certificate) होता है।यह अस्थायी सर्टिफिकेट (temporary certificate) होता है जब तक डिग्री नहीं मिल जाती तब तक यही दिखाना पडता है। 
इसे बनने में एक से दो साल लगते है। यह सर्टिफिकेट पांच से दस दिनों के अंतराल में बन जाता है। 
इस सर्टिफिकेट की कोई समय सीमा नहीं होती यानी ये हमेशा के लिए मान्य होता है। यह सर्टिफिकेट सिर्फ डिग्री आने तक ही मान्य रहता है उसके बाद ये मान्य नहीं रहता।
यह हर जगह उपयोगी होता है। यह भी आप हर जगह दिखा सकते है लेकिन एक समय के बाद आपको डिग्री जमा करनी या दिखानी पढ़ती है। 

प्रोविजनल सर्टिफिकेट से विदेश में दाखिला

Provisional Certificate Online: विदेश में दाखिले के लिए सबसे पहले student visa लेना पढ़ता है। जिसके लिए विद्यार्थी को अपने सारे एजुकेशन सर्टिफिकेट्स जमा करने पढ़ते है और अगर अभी तक डिग्री नहीं मिली तो भी चिंता करने की कोई जरुरत नहीं क्योकि विदेश में जिस भी यूनिवर्सिटी में आप पढ़ना चाहते है। वह यूनिवर्सिटीज में आप डिग्री की जगह प्रोविजनल सर्टिफिकेट भी जमा कर सकते है इससे आपको student visa मिल जायेगा फिर जब डिग्री मिल जाए तब बाद में डिग्री दिखा सकते है। 

प्रोविजनल सर्टिफिकेट किसे कहा जाता है?

जब कोई विद्यार्थी किसी स्कूल या किसी कॉलेज से पढ़ाई पूरी करता है, तब उसे उसकी मार्कशीट के साथ एक और सर्टिफिकेट दिया जाता है। जिसे प्रोविजनल सर्टिफिकेट बोला जाता है डिग्री मिलने में अक्सर ज्यादा समय लग जाता है ऐसे में  विद्यार्थी को दाखिला मिलने में परेशानी न हो इसलिए पहले प्रोविजनल सर्टिफिकेट दे दिया जाता है।


प्रोविजनल सर्टिफिकेट and प्रोविजनल डिग्री सर्टिफिकेट में क्या difference होता है?

प्रोविजनल सर्टिफिकेट और प्रोविजनल डिग्री सर्टिफिकेट के बीच कोई अंतर नहीं होता बस कुछ जगहों पर प्रोविजनल सर्टिफिकेट शब्द उपयोग किया जाता है तो कही पर प्रोविजनल डिग्री सर्टिफिकेट।


प्रोविजनल सर्टिफिकेट की वैधता कब तक होती है?

प्रोविजनल सर्टिफिकेट की कोई वैधता नहीं होती यानी तब तक मान्य होता है जब तक कॉलेज से डिग्री न मिल जाए डिग्री मिल जाने के बाद इसकी समय सीमा समाप्त हो जाती है।

क्या प्रोविजनल सर्टिफिकेट को ही डिग्री बोला जाता है?

जी नहीं, प्रोविजनल सर्टिफिकेट और डिग्री दो अलग अलग दस्तावेज होते है प्रोविजनल सर्टिफिकेट अस्थायी दस्तावेज होता है और डिग्री स्थायी दस्तावेज होता है डिग्री मिल जाने के बाद इस दस्तावेज की वैधता समाप्त हो जाती है।


प्रोविजनल सर्टिफिकेट बनवाने के लिए कितनी फीस लगती है?

हर यूनिवर्सिटी का अपना एक criteria और fee होता है प्रोविजनल सर्टिफिकेट बनाने का पर ज्यादातर कॉलेज में लगभग 430 रुपए के करीब लगते है प्रोविजनल सर्टिफिकेट बनवाने के लिए।

क्या प्रोविजनल सर्टिफिकेट दिखाना जरूरी होता है?

हाँ, पर सिर्फ कुछ समय तक जैसे ही डिग्री बन के आ जाये वैसे ही प्रोविजनल सर्टिफिकेट की जरुरत ख़त्म हो जाती है।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *