21st century skills in hindi

21st Century Skills क्या है और यह क्यों जरूरी है?

इस बात में कोई दो राय नहीं कि हर जगह पर जन संख्या लगातार बढ़ती जा रही है और रोजगार के अवसर कम होते जा रहे हैं जिससे कि हर क्षेत्र में कॉन्पिटिशन काफी बढ़ रहा है। आज के समय में आप अच्छे से अच्छे इंस्टिट्यूट में जाकर बेहतरीन से बेहतरीन डिग्री प्राप्त कर लो तब भी नौकरी लगने की कोई गारंटी नहीं रहती और बिजनेस के मामले में तो कंपटीशन और भी ज्यादा है। 

बाजार में लगभग हर तरीके के प्रोडक्ट बनाने वाली कंपनियां मौजूद है और उन्हें बेचने के लिए भी ना जाने कितने लेवल पर और कितने लोग काम कर रहे हैं तो ऐसे में आज के समय में बेहतरीन कमाने के लिए या फिर कहां जाता सरवाइज करने के लिए भी कुछ स्किल्स की जरूरत होती है। 

अगर आप सफलता प्राप्त करना चाहते हो और काफी आगे बढ़ना चाहते हो तो इसके लिए आपको एडवांस स्किल्स की जरूरत होगी। हम 21वीं शताब्दी में जी रहे हैं जो कंपटीशन से भरी हुई है तो इसके लिए आपके पास वह सभी स्किल्स होनी चाहिए जो आपको आगे बढ़ा सके। 

कुछ स्किल्स तो ऐसी है जो  21 वी शताब्दी के लोगों के लिए जरूरी मानी जाती है और उन जरूरी स्किल्स को 21st Century Skills कहा जाता हैं। अगर आप 21st Century Skills के बारे में नहीं जानते तो यह लेख आपके लिए काफी फायदेमंद साबित होगा। इस लेख में हम आपको 21st Century Skills क्या हैं और यह क्यों जरुरी हैं के विषय के बारे में बताएँगे।

21st Century Skills क्या होती हैं – What is 21st Century Skills in Hindi

समय के साथ कई चीजों में बदलाव आता हैं चाहे वह व्यवसाय हो, सरकारी नौकरी हो या फिर काम करने के लिए सेक्टर्स हो। आज के समय में प्रौद्योगिकी के सेक्टर्स से लाखो रोजगार जुड़े हैं लेकिन आज से 50 साल पहले जाकर देखा जाये तो यह सेक्टर्स कितना ही विकसित था? कहने का मतलब यह है कि आज के समय  पहले के मुकाबले डिमांड काफी बदल चुकी है और समय के अनुसार रोजगार प्राप्त करने के लिए जरूरी इस कृषि बदला हुआ है। 

आज के समय में जो स्किल्स रोजगार प्राप्त करने के लिए और छात्रों के लिए जरूरी मानी जाती है उन्हें स्किल्स को ही 21वीं शताब्दी की स्किल्स यानी कि 21st Century Skills कहा जाता हैं। अगर आप एक छात्र हो तो आपके पास यह स्किल्स होना जरूरी हैं लेकिन अगर रोजगार प्राप्त करने वाले व्यक्ति हो  आप व्यवसाय के क्षेत्र में हो या फिर जॉब करते हो तो भी आपके पास यह स्किल्स होनी चाहिए। 

21st Century Skills के कितने प्रकार हैं? Type of 21st Century in Hindi

अगर आप 21वी शताब्दी की स्किल्स को समझना चाहते हो तो इसके लिए यह जानना जरुरी हैं की कौनसी स्किल्स 21st Century Skills में गिनी जाती है। काफी सारी ऐसी स्किल्स हैं जो आज के समय में workplace पर बने रहने के लिए और छात्र जीवन में सफल होने के लिए जरूरी मानी जाती है और उन्ही स्किल्स को 21st Century Skills कहा जाता हैं। वैसे तो यह स्किल्स कई प्रकार की होती हैं लेकिन इन्हे मुख्य रूप से 3 कैटेगिरी में डिवाइड किया गया हैं, जो इस प्रकार हैं:

लर्निंग स्किल्स :-

Learning Skills वह स्किल्स होती हैं जो हमे तेजी के साथ सिखाने में मदद करती हैं। आपने काफी सारे ऐसे लोग देखे होंगे जो सिखने के मामले में काफी तेज होते हैं। इस तरह के लोग कुछ खास कौशल (Special Skills) के मालिक होते हैं। किसी भी तरह के कैरियर विकल्प के लिए इस प्रकार की स्किल्स काफी लाभदायक साबित होती है।

 बेहतरीन लर्निंग स्किल्स वाले लोग चीजों को आसानी से सीख जाते हैं और उन्हें याद कर लेते हैं जिससे कि उन्हें किसी भी क्षेत्र में आगे बढ़ने में काफी मदद मिलती है। लर्निंग स्किल्स के अंतर्गत critical thinking, createvity, दुसरो के साथ काम करने और  communiction skills को भी गिना जाता है। यह सभी स्किल्स किसी भी क्षेत्र में करियर बनाने के लिए काफी लाभदायक साबित होती है लेकिन क्षेत्र के अनुसार हर एक स्किल का अपना एक अलग महत्त्व होता हैं।

लिटरेसी स्किल्स :-

यह एक एडवांस और आज के समय में जरूरी मानी जाने वाली स्किल्स हैं। Literacy skills पढ़ने और लिखने के लिए आवश्यक skills मानी हैं। उनमें भाषा की ध्वनियों के बारे में जागरूकता, प्रिंट के बारे में जागरूकता और अक्षरों और ध्वनियों के बीच संबंध शामिल हैं। अन्य Literacy skills में शब्दावली, वर्तनी और समझ शामिल है। लिटरेसी स्किल्स के अंतर्गत इनफॉरमेशन लिटरेसी, मीडिया लिटरेसी और टेक्नोलॉजी लिटरेसी शामिल की जाती है।

लाइफ स्किल्स :-

लाइफ स्किल वह स्किल्स होती है जो जिंदगी के हर मोड़ पर और हर उम्र में आपके काम आएगी भले ही आप एक छात्र का जीवन जी रहे हो या फिर एक प्रोफेशनल लाइफ इंजॉय कर रहे हो। इस प्रकार की स्किल्स ने केवल पर्सनल लाइफ को बेहतर बनाती है बल्कि प्रोफेशनल लाइफ भी इन स्किल्स से काफी बेहतर बनती हैं। 

इस प्रकार की स्किल्स में फ्लेक्सिबिलिटी, लीडरशिप, इनिशिएटिव, प्रोडक्टिविटी, सोशल स्किल्स आदि शामिल होती हैं। यह वह स्किल्स होती हैं जो आपको अपने आसपास माहौल और अपने खुद के अनुभव से मिलती हैं लेकिन अगर आप चाहें तो इन इसके उसको इन रूप भी कर सकते हैं। इस प्रकार की स्किल्स आपके जीवन को आसान बनाने में मदद करती हैं।

21st सेंचुरी स्किल्स की पूरी जानकारी हिंदी में – 21st Century Skills Full Information in Hindi

21वी शताब्दी पिछले दशकों के मुकाबले अधिक परिवर्तन देखे गये हैं। कंपनियों के काम करने के तरिके भी बदल चुके हैं। 21वी शताब्दी में काफी सारी ऐसी स्किल्स हैं जिन्हे जरुरी माना जाता हैं। लेकिन उनमे से कुछ मुख्य इस प्रकार हैं:

Critical Thinking : क्रिटिकल थिंकिंग का तात्पर्य महत्वपूर्ण सोचते हैं।  Critical thinking skills हमारे सोचने का ही एक तरीका है जिसमे हम एक Logical और Free thinking के साथ किसी problem का Suitable solution निकालते हैंl 

Collaboration : अगर आप कोलैबोरेशन के बारे में नहीं जानते हैं तो बता दे के साथ मिलकर काम करने और आगे बढ़ने को कोलैबोरेशन कहते हैं। अगर बात की जाये व्यवसाय या फिर कहे तो कॉर्पोरेट के क्षेत्र की  करना थोड़ा मुश्किल होता हैं लेकिन जब कम्पनिया या फिर इम्प्लॉइज ऐसा करर्ते हो तो रिजल्ट्स भी काफी बेहतर ही देखने को मिलते हैं।

Information Skills : यह स्किल एक एडवांस स्किल्स हैं जो आज के टाइम में हर उस व्यक्ति के पास होनी चाहिए जो दुसरो से आगे रहना चाहता हैं और कॉम्पटीशन से थोड़ा अलग चलना चाहता हैं। इनफार्मेशन लिटरेसी स्किल्स में फैक्ट्स, फिगर्स, स्टैटिक्स और डाटा को समझने की की क्षमता को गिना जाता हैं।

Media Literacy : आज के समय में लगभग सभी चीज डिजिटल हो चली हैं। यहाँ तक की अगर आप कोई एडवांस चीज सीखना चाहते हो तो उसके लिए भी आपको डिजिटल जाना होगा। शायद यही कारण हैं की आज के समय मिडिया लिट्रेसी को भी काफी जरुरी माना गया है।

Technology Literacy : प्रौद्योगिकी से भरे इस ज़माने में हर जगह पर विभिन्न मशीनों और उपकरणों का उपयोग होता है। आज के समय में कम्प्यूटर, क्लाउड प्रोगरामिंग और मोबाइल फोन्स काफी ज्यादा जरूरी हो गए हैं। तो ऐसे में अगर आप 21st सेंचुरी में जी रहे हो तो आपको इन सही कॉन्सेप्ट्स के बारे में नॉलेज होनी चाहिए।

Flexibility : आपका एक जैसा व्यवहार, एक जैसी सोच, एक जैसा व्यवहार आपको हर जगह टिकने में मदद नहीं कर सकता। परिस्थितियों के हिसाब से आपको बदलना होता हैं। अगर कभी आप गलती करो तो आपको माफ़ी भी मांगनी आनी चाहिए और अगर कभी आप सही हो तो आपको गलत का विरोध भी करना आना चाहिए।  कुछ जगहों पर स्वाभिमान जरूरी होता हैं तो कुछ जगहों पर झुककर भी काम करना होता हैं। इसी को फ्लेक्सिबिलिटी या फिर लचीलापन कहते हैं।

Leadership : आज के समय में अगर कोई व्यक्ति बिजनेस करना चाहता है या फिर कुछ भी बड़ा शुरू करना चाहता हैं तो उसके अंदर जो सबसे पहली जरूरी चीज होनी चाहिए वह Leadership Quality है। लीडरशिप क़्वालिटी के चलते छात्र या प्रोफेशनल अन्य लोगो को अपने साथ लेकर काम करने के योग्य होते हैं जिससे उन्हें भी प्रॉफिट मिलता हैं और साथ काम कर रहे लोगो को भी प्रॉफिट मिलता हैं।

Initiative : आज के कॉम्पटीशन भरे जमाने मे शायद जॉब प्राप्त करने से ज्यादा समस्या अपना खुद का व्यवसाय करने में हैं। हमारे देश मे करोड़ो ऐसे लोग हैं जो अपना स्वयं का बिजनेस करना चाहते हैं या फिर से अपना स्टार्टअप शुरू करना चाहते हैं। लेकिन जो चीज पहले से बाजार में हैं और बेहतर कर रही हैं उसे लेकर सफलता प्राप्त करने थोड़ा मुश्किल प्रतीत होता हैं लेकिन अगर कुछ नई चीज या फिर Initiative Idea के साथ बाजार में उतरा जाए तो शायद काम आसान बन सकता हैं। शायद यही कारण हैं कि आज के समय मे Initiative होना भी काफी जरूरी हैं।

Productivity : प्रोडक्टिविटी को काफी सारे लोग एफिशिएंसी के नाम से भी जानते हैं। प्रोडूक्टिविटी आज जे समय मे सबसे अधिक जरूरी स्किल हैं। दुनिया तेजी से आगे बढ़ रही हैं। हम भले कितना ही बेहतर करे लेकिन कोई न कोई ऐसा जरूर होगा जो हम से भी बेहतर कर रहा होगा। तो ऐसे में आज जितना अधिक समय Productivity Works पर दे उतना ही अधिक बेहतर हैं।Employee से लेकर CEO तक सभी का अधिक से अधिक Productive होना जरूरी हैं। छात्रों को भी आज कर समय मे अधिक प्रोडक्टिव होना चाहिए और अपना अधिकतम समय सीखने पर लगाना चाहिए। अधिक Productivity के लिए आपकी टाइम मैनेजमेंट स्किल्स आपके सबसे ज्यादा काम आती हैं।

Social Skills : दुसरो के साथ अच्छे तरीके से पेश आना, उनके साथ व्यवहार बनाए रखना आदि Social Skills में गिने जाते हैं। Social Skills न केवल आपकी प्रॉफेशनल लाइफ बल्कि पर्सनल लाइफ को भी बेहतर बनाने में मदद करती हैं। बिजनेस के सोशल स्किलस सबसे अधिक जरूरी मानी जाती हैं। अगर कोई अच्छे व्यवहार वाला व्यक्ति और कोई बुरे व्यवहार वाला व्यक्ति सेम कीमत में और सेम प्रोडक्ट बेचे तो हम बेशक अच्छे व्यवहार वाले व्यक्ति के पास जाना पसन्द करेंगे। यही कारण हैं कि आपकी प्रॉफेशनल लाइफ में Social Skills काफी उपयोगी साबित होती हैं।

ये भी पढ़े :-personal development skills कौन सी होती है
0ikjji

21st Century Skills क्यों जरुरी हैं? (Importance of 21st Century Skills in Hindi)

आज के समय मे कितना कॉम्पटीशन हैं हम इस बात को भली बाती जानते हैं। भले ही आप कोई से भी इंस्टिट्यूट से कितनी ही वैल्युबल डिग्री क्यों न लो लेकिन आज के समय मे आपको जो वैल्यू आपकी Skills दिला सकती हैं शायद ही वह वैल्यू आपको आपकी डिग्री दिला सके। 

अगर आप अपनी ग्रेजुएशन पूरी करने के बाद भी अगर किसी बेहतर कम्पनी में नौकरी के लिए आवेदन करते हो तो कम्पनी जितना आपकी डिग्री को देखेगी उतनी ही आपकी Skills को भी परखेगी। कहने का मतलब यह हैं कि आपने जो कोर्स किया है वही कोर्स अन्य बहुत से लोगों ने भी किया हैं तो ऐसे में अगर आप उनसे आगे निकलने चाहते हो और कम्पनी के द्वारा हायर होना चाहते हो तो इसके लिये Skills जरूरी हैं।

काफी सारे छात्र ऐसे भी होते हैं जिन्हें अपने जीवन मे कोई लिमिटेशन नही चाहिए होती है तो ऐसे छात्र नौकरी करना नहीं बल्कि अपना खुद का व्यवसाय करना बेहतर समझते हैं। काफी सारे छात्र Startups की तरफ कदम बढ़ाते है और Entrepreneurship अपनाते हैं तो यह कुछ ऐसी जगह हैं जहाँ आपकी डिग्री कोई मायने नहीं रखती! अगर कोई चीज मायने रखती हैं तो वह आपकी Skills और आपकी Knowledge हैं। तो ऐसे में आप जितना ध्यान अपनी Skills को इंप्रूव करने में दोगे उतना ही बेहतर होगा।

Related Posts

One thought on “21st Century Skills क्या है और यह क्यों जरूरी है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *